05-11 अक्टूबर/October, 2020

‘सप्ताह का प्रादर्श’
(05 से 11 अक्टूबर, 2020 तक)

कोविड-19 महामारी के प्रसार के कारण दुनिया भर के संग्रहालय बंद है लेकिन यह सभी अपने दर्शकों के साथ निरंतर रूप से जुड़े रहने के लिए विभिन्न अभिनव तरीके अपना रहे हैं। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय ने भी इस महामारी द्वारा प्रस्तुत की गई चुनौतियो का सामना करने के लिए कई अभिनव प्रयास प्रारंभ किए है। अपने एक ऐसे ही प्रयास के अंतर्गत मानव संग्रहालय ‘सप्ताह का प्रादर्श’ नामक एक नवीन श्रृंखला प्रस्तुत कर रहा है। पूरे भारत से किए गए अपने संकलन को दर्शाने के लिए संग्रहालय इस श्रंखला के प्रारंभ में अपने संकलन की अति उत्कृष्ट कृतियां प्रस्तुत कर रहा है जिन्हें एक विशिष्ट समुदाय या क्षेत्र के सांस्कृतिक इतिहास में योगदान के संदर्भ में अद्वितीय माना जाता है। यह अति उत्कृष्ट कृतियां संग्रहालय के ‘AA’और ‘A’ वर्गों से संबंधित हैं। इन वर्गों में कुल 64 प्रादर्श हैं।

टेबल- लकड़ी की एक नक्काशीदार  मेज़

लकड़ी पर जटिल नक्काशी की परंपरा के लिए गुजरात प्रसिद्ध है, जिसे वहां के दरवाजों, खिड़कियों, बाहर की ओर निकली बालकनियों, फर्नीचर, घर के खंभों तथा अग्रभाग आदि में देखा जा सकता है। टेबल एक ऐसा ही अनूठा नमूना है जो स्पष्ट रूप से कलाकार के उत्कृष्ट शिल्प कौशल को दर्शाता है । ऊपरी गोलाकार हिस्से पर एक समान और फूलदार जड़ाऊ  डिजाइन मेज़  के रूप में अभिवृद्धि करती है।इसके चारों पैरों को हाथी के सिर और सूंड़ को उकेर कर अलंकृत किया गया है।इसे आमतौर पर घरेलू कार्यों के लिए सेंटर टेबल के रूप में उपयोग किया जाता है।

आरोहण क्रमांक :  98.150
स्थानीय नाम: टेबल, लकड़ी की एक नक्काशीदार  मेज़।
जनजाति/समुदाय : दरवार
स्थान: अहमदाबाद, गुजरात
माप: ऊंचाई : 58.5 सेमी।, गोलाई – 165 सेमी।

श्रेणी : ’A‘ 

OBJECT OF THE WEEK
(5th to 11th October, 2020)

Due to spread of COVID-19 pandemic the museums throughout the world are closed but identifying different innovative ways to remain connected to their visitors. Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya (National Museum of Mankind) has also taken up many new initiatives to face the challenges posed by this pandemic. In one such step it is coming up with a new series entitled ‘Object of the Week’ to showcase its collection from all over India. Initially this series will focus on the masterpieces from its collection which are considered as unique for their contribution to the cultural history of a particular ethnic group or area. These masterpieces belong to the “AA” & “A” category. There are 64 objects in these categories.

Tebal – A carved wooden table

Gujarat is well known for its intricate wood carving tradition which can be seen in their houses in the form of doors, windows, projected balconies, furniture, house pillars, house facade etc. Tebal is one such unique specimen which clearly depicts the excellent craftsmanship of the artist. Round in shape with symmetrical and floral inlay designs on the upper part enhance the look of the table, whereas the four legs are ornamented by carving elephant head with long trunk. It is commonly used as center table for household purpose.

Accession No.:   98.150
Local Name – Tebal – a carved wooden table
Tribe/Community – Darwar
Locality – Ahmedabad, Gujarat
Measurement  -Height –  58.5 cm., Circularity- 165 cm
Category –  ‘A’

Local Name – Tebal – a carved wooden table

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *