14-20 दिसम्बर/December, 2020

‘सप्ताह का प्रादर्श’
(14 से 20 दिसम्बर, 2020)

एराजबाला- एक मुखौटा

कोविड-19 महामारी के प्रसार के कारण दुनिया भर के संग्रहालय बंद है लेकिन यह सभी अपने दर्शकों के साथ निरंतर रूप से जुड़े रहने के लिए विभिन्न अभिनव तरीके अपना रहे हैं। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय ने भी इस महामारी द्वारा प्रस्तुत की गई चुनौतियो का सामना करने के लिए कई अभिनव प्रयास प्रारंभ किए है। अपने एक ऐसे ही प्रयास के अंतर्गत मानव संग्रहालय ‘सप्ताह का प्रादर्श’ नामक एक नवीन श्रृंखला प्रस्तुत कर रहा है। पूरे भारत से किए गए अपने संकलन को दर्शाने के लिए संग्रहालय इस श्रंखला के प्रारंभ में अपने संकलन की अति उत्कृष्ट कृतियां प्रस्तुत कर रहा है जिन्हें एक विशिष्ट समुदाय या क्षेत्र के सांस्कृतिक इतिहास में योगदान के संदर्भ में अद्वितीय माना जाता है। यह अति उत्कृष्ट कृतियां संग्रहालय के ‘AA’और ‘A’ वर्गों से संबंधित हैं। इन वर्गों में कुल 64 प्रादर्श हैं।

मुखौटे विभिन्न औपचारिक या उद्देश्यपूर्ण अवसरों पर पहने जाते हैं । इनकी निर्माण सामग्री में भिन्नता उपयोगकर्ता पर निर्भर करती  है। हर मुखौटा एक पात्र का प्रतिनिधित्व करता है, वह चाहे दानव हो या देवता। एराजबाला लकड़ी का एक हल्का मुखौटा है जिसे नृत्य प्रस्तुति, विशेष रूप से छेरता अभियान की समारोहिक यात्रा और अन्य त्योहारों पर मुरिया विदूषक द्वारा पहना जाता है। छेरता लोकप्रिय उत्सवों में से एक है जिसका आयोजन मुरिया लड़के और लड़कियां बड़े उत्साह से करते हैं। प्रमुख नर्तक एक मसखरे के वेश में ग्राम वासियों का मनोरंजन करता है और वे घर-घर जाकर नृत्य करते हैं और सामूहिक भोज की व्यवस्था करने के लिए शराब, चावल, दाल और अन्य खाद्य पदार्थ मांगते हैं।

विदूषक द्वारा पहने जाने वाले इस  मुखौटे में दो जोड़े लकड़ी के सींग , पीतल के छल्लों से बनी आंखें , धातु के दांत और पशु के चर्म युक्त बालों से बनी मूंछें हैं।  प्रस्तुति के दौरान, विदूषक इस मुखौटे  को पहन कर और हाथ में एक छड़ी लेकर दर्शकों का मनोरंजन करता है। वर्तमान में, मुरिया जनजाति में उत्सव की इस गौरवशाली परंपरा से इस तरह की दुर्लभ कलाकृतियाँ धीरे-धीरे विलुप्त हो रही हैं।

आरोहण क्रमांक :  96.624
स्थानीय नाम: एराजबाला- एक मुखौटा
जनजाति/समुदाय : मुरिया
स्थान: छत्तीसगढ़
माप: लंबाई- 51.5 सेमी, चौड़ाई – 14.5 सेमी, गहराई-9.5 सेमी।
श्रेणी :’A‘ 

OBJECT OF THE WEEK
(14th to 20th December, 2020)

ERAJBALA – A mask

Due to spread of COVID-19 pandemic the museums throughout the world are closed but identifying different innovative ways to remain connected to their visitors. Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya (National Museum of Mankind) has also taken up many new initiatives to face the challenges posed by this pandemic. In one such step it is coming up with a new series entitled ‘Object of the Week’ to showcase its collection from all over India. Initially this series will focus on the masterpieces from its collection which are considered as unique for their contribution to the cultural history of a particular ethnic group or area. These masterpieces belong to the “AA” & “A” category. There are 64 objects in these categories.

Masks are worn on various occasions may be ceremonial or purposive. Constituent material varies depending on the user. Every mask is a representation of a character, whether it may be a demon or a deity. Erajbala is a lightweight wooden mask worn by the Muria Jester during the dance performance, especially on a ceremonial parade of the Chherta expedition and other festivals. The Chherta is one of the popular celebrations held with great fun by the Murias boys and girls. The leading dancer is enacted with a Jester appearance to entertain the villagers, and they visit each house and perform dances to beg for liquor, rice, pulse, and other foods to arrange a feast.

This mask worn by the Jester is represented by two pairs of projected wooden horns, brass rings fixed as an orbit to the eyes, metal teeth, and mustaches of animal hair containing strips of hides. During the performance, the Jester used to wear this mask, and he also accompanies a prop of stick to entertain the audience. In the present situation, this kind of rare artifacts is slowly disappearing from the glorious tradition of the Muria festivity.

Accession No.:   96.624
Local Name –  ERAJBALA – a mask
Tribe/Community – Muria
Locality – Chattisgarh
Measurement  – Length- 51.5 cm , Width – 14.5 cm, Depth-9.5 cm
Category –  ‘A’