08 -14 मार्च/March, 2021

‘सप्ताह का प्रादर्श-42’
(08 से 14 मार्च, 2021 तक)

कोविड-19 महामारी के प्रसार के कारण दुनिया भर के संग्रहालय बंद है लेकिन यह सभी अपने दर्शकों के साथ निरंतर रूप से जुड़े रहने के लिए विभिन्न अभिनव तरीके अपना रहे हैं। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय ने भी इस महामारी द्वारा प्रस्तुत की गई चुनौतियो का सामना करने के लिए कई अभिनव प्रयास प्रारंभ किए है। अपने एक ऐसे ही प्रयास के अंतर्गत मानव संग्रहालय ‘सप्ताह का प्रादर्श’ नामक एक नवीन श्रृंखला प्रस्तुत कर रहा है। पूरे भारत से किए गए अपने संकलन को दर्शाने के लिए संग्रहालय इस श्रंखला के प्रारंभ में अपने संकलन की अति उत्कृष्ट कृतियां प्रस्तुत कर रहा है जिन्हें एक विशिष्ट समुदाय या क्षेत्र के सांस्कृतिक इतिहास में योगदान के संदर्भ में अद्वितीय माना जाता है। यह अति उत्कृष्ट कृतियां संग्रहालय के ‘AA’और ‘A’ वर्गों से संबंधित हैं। इन वर्गों में कुल 64 प्रादर्श हैं।

आफताबा, जल/तरल द्रव्य के भंडारण हेतु पीतल का पात्र

आफताबा पीतल का एक पात्र है जो जल या अन्य तरल पदार्थ के भंडारण के लिए उपयोग किया जाता है। बड़े आकार के इस पात्र पर समृद्ध मुगल शैली में उत्कीर्णित तारे, अर्ध चन्द्र तथा अन्य फूल – पत्ती युक्त रूपांकनों के कारण यह अपने स्वामी की सामाजिक-आर्थिक प्रस्थिति को दर्शाता है। पात्र का हत्था एक सुंदर मछली के आकार का है और S आकार की टोटी के अंत में बाघ का सिर बनाया गया है। सोनी मूल रूप से स्वर्णकार जाति के हैं, लेकिन मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में वे आभूषणों के अतिरिक्त धातु की अन्य वस्तुओं का निर्माण भी करते हैं। पात्र का निर्माण लॉस्ट वैक्स पद्धति से किया गया है और बाद में उस पर फूल पत्तियों के जटिल रूपांकन उत्कीर्ण किये गए हैं। पात्र पर समृद्ध रूपांकन निर्माता के उत्कृष्ट शिल्प कौशल एवम् साथ ही उपयोगकर्ता की आर्थिक प्रस्थिति को भी दर्शाता है। भारत और मध्य – पूर्व एशिया के इस्लामिक क्षेत्रों की उष्ण और कठिन जलवायु जल पात्रों को अत्यंत महत्वपूर्ण बनाती है। इसका उपयोग प्रार्थना के पूर्व और भोजन के पूर्व एवम् पश्चात हाथ धोने के लिए किया जाता था। इस प्रकार के पात्र अभिजात्य एवम् मध्यम वर्गीय घरों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहे हैं।

आरोहण क्रमांक – 97.84
स्थानीय नाम – आफताबा, जल/तरल द्रव्य के भंडारण हेतु पीतल का पात्र
समुदाय – सोनी
स्थानीयता –टीकमगढ़, मध्य प्रदेश
माप – ऊंचाई – 47 सेमी; गोलाई -55 सेमी;
श्रेणी – ‘ए’

OBJECT OF THE WEEK-42
(08-14 March, 2021)

Due to spread of COVID-19 pandemic the museums throughout the world are closed but identifying different innovative ways to remain connected to their visitors. Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya (National Museum of Mankind) has also taken up many new initiatives to face the challenges posed by this pandemic. In one such step it is coming up with a new series entitled ‘Object of the Week’ to showcase its collection from all over India. Initially this series will focus on the masterpieces from its collection which are considered as unique for their contribution to the cultural history of a particular ethnic group or area. These masterpieces belong to the “AA” & “A” category. There are 64 objects in these categories.

AFTABA- Brass container for storing and pouring liquid

Aftaba is a brass container used for storing or pouring liquids. This large container reveals the socio-economic status of the owner as the objects depicts rich Mughal style engravings showing star, half moon and other floral designs. The container has a beautiful fish shaped handle and ‘S’ shaped dispenser pipe with a tiger head at the end. The Soni are essentially still goldsmiths caste, but in tikamgarh district of Madhya Pradesh they are also involved in the manufacture of other metal items besides jewelry. They also cast other objects based on user’s requirement. The pot is made from lost wax casting followed by intricate design of flora in engraved fashion. The rich design on the pot reveals the excellent craftsmanship of the maker and also shows the economic status of the user. Both in India and in the Islamic land of the middle East Asia, the hot and harsh climate make a water bearing vessel very important. It was used for ritually cleansing one’s hand before prayer and for washing hands before and after meal. This pot thus was an important part of every aristocratic as well as middle class house hold.

Acc. No. –  97.84
Local Name  –  AFTABA- Brass container for storing and pouring liquid
Tribe/Community – Soni
Locality   –  Tikamgarh, Madhya Pradesh
Measurement – Height – 47cm., Circumference- 55cm
Category –   ‘A’

AFTABA- Brass container for storing and pouring liquid

#aftaba #brasscontainer #soni #tikamgarh #madhyapradesh #mughalstyle #lostwaxprocess #igrms #museumfromhome #objectoftheweek #ethnograhicobject #museumobject #museumofman #museumofmankind #museumofhumankind #experienceigrms #igrmsstories #staysafe #covid19