ऑनलाइन प्रदर्शनी श्रृंखला – Online Exhibition Series-42

ऑनलाइन प्रदर्शनी श्रृंखला -42
(01 अप्रैल, 2021)

इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय अपनी स्थापना के समय से ही मानव जाति की गाथा को, समय और स्थान के परिप्रेक्ष्य में दर्शाने में संलग्न है। संग्रहालय भारतीय विरासत के संरक्षण, सवर्धन और पुनरुद्धार पर केंद्रित है। इसकी अंतरंग और मुक्ताकाश प्रदर्शनियाँ देश भर में रहने वाले विभिन्न समुदायों की लुप्त प्रायः स्थानीय संस्कृतियों की प्रासंगिकता को प्रदर्शित करती है। इस महामारी के दौरान सभी को अपने साथ डिजिटल रूप से जोड़ने के उद्देश्य से इं.गाँ.रा.मा.सं. 200 एकड़ में प्रदर्शित अपने प्रादर्शों को ऑनलाइन प्रदर्शित करने हेतु एक नई श्रृंखला प्रस्तुत कर रहा है। प्रदर्शनी का मुख्य उद्देश्य पारंपरिक जीवन शैली के विभिन्न सौंदर्य गुणों और आधुनिक समाज में इसकी निरंतरता को उजागर करना है।

श्रृंखला के मुख्य आकर्षण में जनजातीय आवास, हिमालयी गांव, मरु ग्राम और तटीय गांव की मुक्ताकाश प्रदर्शनियों में दर्शायी गयी पारंपरिक वास्तु विविधता है। पारंपरिक तकनीकी पार्क मुक्ताकाश प्रदर्शनी में सरल तकनीकी के माध्यम से प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करने में रचनात्मक कौशल को दर्शाया गया है। शैल कला धरोहर प्रदर्शनी प्रागैतिहासिक काल के दौरान मानव विचारों और संचार की अभिव्यक्ति का एक उल्लेखनीय उदाहरण है। पुनीत वन प्रदर्शनी जैव विविधता के संरक्षण के पारंपरिक तरीकों को प्रदर्शित करती है। मिथक वीथि मुक्ताकाश प्रदर्शनी में विभिन्न समुदायों के दैनिक जीवन से संबंधित कथाओं का चित्रण देखा जा सकता है। कुम्हार पारा प्रदर्शनी, भारत की मिट्टी के बर्तनों और टेराकोटा परंपराओं पर केंद्रित है।

वीथि संकुल- अंतरंग संग्रहालय भवन की 12 दीर्घाओं में मानव संस्कृतियों के विविध पहलुओं को दर्शाया गया है। इसके मुख्य आकर्षण में भारत सहित दुनिया भर से संकलित प्रादर्शों को मॉडल, ग्राफिक्स, डायरोमास, शोकेसेस के माध्यम से विषयवार प्रस्तुत किया गया है।

जनजातीय आवास मुक्ताकाश प्रदर्शनी से
पुरिल्लू: आंध्र प्रदेश की जतापू जनजाति का पारंपरिक आवास प्रकार

जतापू जनजाति आंध्र प्रदेश के विजयनगरम जिले के पूर्वी घाटी क्षेत्र के पहाड़ी एवं समतल भूभागों पर निवास करती है | जतापू समुदाय खोंड जनजाति का ही रूप है जो पहाड़ी क्षेत्रों में कोंद एवं समतल में तेलुगु भाषा बोलते  हैं | उन्हें खोंड एवं समंथुलू भी कहा जाता है | तेलुगु में समंथुलू का अर्थ जागीदार से होता है | उनकी मातृभाषा “कुवि” है जो द्रविड़ भाषा परिवार से सम्बद्ध है | जतापू समुदाय में शुभ कार्यों हेतु समय निश्चित करने वाला व्यक्ति “दिसारी ” कहलाता है | उसे ‘मुहुर्थागादु’  अथवा ‘चुक्का मुहुर्थागादु’ के नांम से भी जाना जाता है | कोई भी शुभ कार्य जैसे गृह निर्माण, विवाह इत्यादि से पहले शुभ मुहूर्त हेतु उनसे परामर्श लिया जाता है | वह उत्सव मनाने एवं देवी देवताओं के पूजन हेतु भी शुभ दिन एवं शुभ मुहूर्त निश्चित करता हैं |

       जतापू भौतिक संस्कृति बहुत ही सम्पन्न है, विशेषतः उनके पारंपरिक आवास प्रकार-  छप्पर निर्मित आयताकार आवास पुरिल्लू बहुत रोचक हैं | यह आवास मुख्यतः तीन भागों – मुख्य हॉल मध्य भाग (इन्लिस), अग्र भाग (गद्पा) एवं पश्च भाग रसोईघर (वेंतागडी) से मिलकर बना है | घर का मध्य भाग काफी महत्त्व रखता है क्योंकि इसी में बहुमूल्य वस्तुएं जैसे अनाज, वस्त्र, रुपया, जेवरात इत्यादि संग्रह किया जाता है | मध्य भाग में एक अतिरिक्त स्थान (मचान) भण्डारण इत्यादि के लिए होता है बांस से निर्मित ये स्थान ‘अटूकू’ कहलाता है | मध्य भाग में पारंपरिक अनाज कुटाई हेतु सतह में ओखलीनुमा छिद्र भी तैयार किया जाता है | जतापू समुदाय में आवास का मध्य भाग विशेषतः पारम्परिक अनाज कुटाई का यह स्थान काफी पवित्र माना जाता है और विवाह तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | अधिकतर जतापू परिवार में उनके विवाहित पुत्रों हेतु बगल में अतिरिक्त कमरों के बनवाने का प्रचलन है |

       इन घरों को चार दिवारी (इलुगु) द्वारा सुरक्षा प्रदान की जाती है एवं इनका निर्माण मुख्यतः मिटटी अथवा मिटटी/पत्थर अथवा मिटटी ईंट की सहायता से किया जाता है | छत का निर्माण बॉस के बने ढांचे एवं क्षेत्रीय सूखी घास (डब्बा गड्डी) जो कि ढांचे के ऊपर फैलाई जाती है, से किया जाता है | इसके नीचे बीच में दो लम्बे खम्बे जबकि एक एक खम्बा किनारों पर उसे ढलुआ आकृति प्रदान करने हेतु लगे होते है | एक मजबूत काष्ठ बीम बीच के दो खम्बो पर क्षैतिज रखी होती है जबकि किनारों वाले खम्बो से मध्यथता करते काष्ठ के कई खम्बे संयोजित किये जाते हैं | निचली एवं ढलायु छत होने से ठंडी एवं गर्म हवा अन्दर प्रवेश नहीं कर पाती एवं घास की मोटी परत ठण्ड में गर्मी एवं गर्मी में ठण्डकता प्रदान करती है | ये हमेशा अपने घर मुख्य ग्राम से एक या दो किमी दूर जंगल/ जलस्थान अथवा खेतों तथा गावों के बीच स्थापित करते हैं जिससे उन्हें खेती में आसानी होती है | इन आवास प्रकारों का पर्यावरण से गहरा सम्बन्ध होता है जो अन्य समाजों को भी इसकी विविध सांस्कृतिक दस्तूरों की वजह से प्रभावित करता है | विजयनगरम जिले के सुलुरु मण्डल में  जतापुओं के घर पंक्तिबद्ध हैं| समान्यतः इस क्षेत्र के जनजातीय गाँवों में सजातीय लोग निवास करते है | एक दूसरे के सहयोग से बनाये इन घरों को ये कभी अपनी संपत्ति नहीं समझते | प्रत्येक तीन- चार वर्ष में ये इन घरों की छत एवं घास बदलते हैं | इन्हें अपने घरों के अगले एवं पिछले भाग में बागवानी करने का भी शौक होता है | आगे के भाग में मुख्यतः ये फूलों की प्रजातियाँ जैसे गुलाली, मंडरा, कनाकमबोरम, बंथी इत्यादि रोपते है तो पिछले भाग में फलों जैसे आम, कटहल इत्यादि के साथ कुछ सब्जियां जैसे सफ़ेद एवं जंगली कद्दू लगाना पसंद करते है |

       सौन्दर्य की दृष्टि से भी ये अपने घरों को हमेशा साफ-सुथरा रखते हैं | गोबर(एवुपेडा) की लिपाई कर काले एवं लाल रंग की पट्टिकाओं से अपने घरों को सुन्दर रूप प्रदान करते हैं | उन्हें साफ-सफाई का भी अत्यंत ध्यान रहता है इस हेतु ये अपने घरों से 20-25 मीटर दूरी पर गड्डा खोदते है जहाँ प्रतिदिन का कचरा इकठ्ठा कर प्रत्येक छ : महीने अथवा आसपास के समय में इसे डिकंपोज्ड कर खाद तैयार करते हैं | प्राप्त खाद का उपयोग वह अपनी शुष्क अथवा गीली खेती में करते हैं जो उनके  द्वारा एक उत्कृष्ट उदहारण है | वे गोशालाओं को या तो घरों के पास या थोड़ी दूरी पर बनाते हैं| उनका चूल्हा दो या तीन भागों में विकसित होता है ताकि एक समय पर कई भोजन तैयार किये जा सकें | जंगल से लाये सुखी लकड़ियों को ये टुकड़ो में काटने के बजाये सीधे ही चूल्हे में लगाना पसंद करते हैं | जतापू घर केवल आराम प्रदान करने के लिए ही नहीं अपितु ये विविध सामाजिक, सांस्कृतिक एवं आर्थिक आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु भी महत्वपूर्ण भूमिका निभते हैं | वर्ष 2011 के जनगणना के अनुसार इनकी जनसंख्या 1,26,659 है |

Online Exhibition Series-42
(01st April, 2021)

Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya engaged to portray the story of humankind in time and space since its inception. The Museum focuses on salvaging and revitalization of Indian heritage. Its indoor as well as open-air exhibitions showcase the relevance of the vanishing local culture of the different communities living across the country. With the aim of connecting everyone digitally during this pandemic, the IGRMS is presenting a new series of online exhibitions of its exhibit displayed across 200 acres. The main aim of the exhibition is to highlight the varied aesthetic qualities of the traditional lifestyle and its continuity in modern society.

The main attraction of the series includes the depiction of vernacular architectural diversity portrayed in the open air exhibitions of Tribal Habitat, Himalayan Village, Desert Village and Coastal Village. The Traditional Technology Park open air exhibition depicts the creative skills in using natural resources through simple technology. Rock Art Heritage open air exhibition is a remarkable example of expression of human thoughts and communication during the prehistoric times. The Sacred Grove open air exhibition showcases the traditional practices and way of conserving the bio-diversity. The depiction of narratives or stories related to every day life of various communities can be seen in Mythological Trail open air exhibition. The Kumhar Para open air exhibition focuses on the pottery and the terracotta traditions of India.

The indoor museum building Veethi Sankul houses 12 galleries depicting the diverse facets of human cultures. Its main attraction includes the thematically arranged galleries with models, graphics, diaromas, showcases, panels of the valuable ethnographic collections of the museum from different parts of India and abroad.

From Tribal Habitat open air exhibition
Purillu: Traditional Jatapu

Tribal House type of Andhra Pradesh

The Jatapu tribe resides in the hilly terrain and foot hills of the viziangaram district of the Eastern ghats region in Andhra Pradesh. The Jatapu community is a section of the Khonds, who speak kond on the hills and teluges in the plains. They have various synonyms like khond and Samanthulu. In Telegu, samanthulu means feudatories. Their mother tongue is “Kuvi” belonging to the Dravidian family of languages.     Among the Jatapus, the person who fixes auspicious times is called the Disari. He is also known as “Muhoorthagadu or Chukka Muhoorthagadu. He is consulted to fix up the time (Muhoorthamis) before undertaking any important work such as construction of houses, marriage alliances etc. He also fixes the time and day for the celebration of festivals and workship of deities.

            The Jatapu material culture is very rich, particularly their traditional house type is very interesting i.e. purilllu is a thatched house having rectangular type. The house mainly consists of three portions i.e. main hall, central portion of the house (Inilles) front portion of the house is (Gadapa) back portion of the house is kitchen(Vantagadi). The central portion of the house got prime importance for keeping all valuable things including food grains, cloths, cash, jewellery etc. The central hall also serves as an extras ceiling, for storage keeping facility that is called “Atuku” is completely made of bamboos and also having a provision for pounding hole on the surface of the floor for pounding flour of their traditional food grains. Among the Jatapus the central hall particularly pounding hole (Rotigunta) plays a pivotal role in dealing with marriage fixations winds is a very auspicious spot of the Jatapus. Majority of the Jatapus houses have an extra side hall particularly in the extended families for the purpose of their married son.

            The entire house has fencing (Elugu) for the protection of the house. The construction of the materials of the house is generally built with either mud alone or mud and stone or mud and brick or mud and wattle. The roof is covered with a thick bamboo frame and the dried local grass called ‘Dabbagaddi’ is systematically spread on that frame. They erect two long poles in the centre and shorter one in the corner to get sloping on both sides. Another strong wooden beam is horizontally placed over the two central poles (Vennupatti) on the central horizontal beam several wooden poles placed connecting the corner poles. The low roofs also prevent cold waves and heat waves from directly entering the house. the thick grass roof keeps the house warm in winter and cool in summer season. They always build their dwelling one or two kilometers away from the main villages, with either forests or streams or fields inter posed between the main village which help in easy access to podu cultivation in bringing fire wood and collection of roots and tubers etc. The dwelling styles have some relation to the environment and at the sametime different societies may react in different ways in the same situation due to diverse cultural practices. The housing pattern of Jatapu of Saluru mandal in Viziangaram district of the linear type. Generally, the tribal villages in their region are exclusively inhabited by a single tribe, the Jatapus never treated house as a property their house is very simple easy to be built with the cooperation of their relatives. Every three to four years they change their roof and rethatched the grass. Jatapus are very fond of raising horticultural plants both front and backyward of their houses. In front yard usually they plant flowering spices i.e. Gulali, Mandara, Kanakamboram, Banthi etc. In back yard they raise fruit bearing species i.e. mango, jackfruit, citras, Jeelugu (Caryota) and apart from few vegetables including white pumpkin and wild pumpkin.

                        With an aesthetic sense the Jatapus keep their homes neat and clean, plaster the floor with cow dung (Avupeda) and decorate the home with black and red borders of earthen colours. They have good sense of hygiene a pit (Penta) with the radius of 3 meters and depth of 3-4 meters about 20-25 meters away from the home. They collect every day waste and dumped into then pit, every six months or some times once in a year, the waste decomposed and converted into compost. They use manure for their dry and wet land cultivation, which is an excellent indigenous practice among the Jatapus, the cattle sheds are constructed either adjacent to the dwelling houses or a little apart form them the hearth is divided into two or three parts to enable them to cook two or three items at a time. The fire wood of the dried three branches brought from the forest are not cut into small pieces, but are placed into the hearth straight away. The Jatapu house not only provides a merely resting place, it offers, facilitates and fulfils a variety of social, cultural and economic needs among the Jatapu. Their population of 1,26,659 according to (2011 census).

Introductory video on Tribal Habitat open air exhibition Purillu: Traditional JatapuTribal House type of Andhra Pradesh