05 से 11 अप्रैल तक/05th to 11th April- 2021

‘सप्ताह का प्रादर्श-46’
(05 से 11 अप्रैल, 2021 तक)

कोविड-19 महामारी के प्रसार के कारण दुनिया भर के संग्रहालय बंद है लेकिन यह सभी अपने दर्शकों के साथ निरंतर रूप से जुड़े रहने के लिए विभिन्न अभिनव तरीके अपना रहे हैं। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय ने भी इस महामारी द्वारा प्रस्तुत की गई चुनौतियो का सामना करने के लिए कई अभिनव प्रयास प्रारंभ किए है। अपने एक ऐसे ही प्रयास के अंतर्गत मानव संग्रहालय ‘सप्ताह का प्रादर्श’ नामक एक नवीन श्रृंखला प्रस्तुत कर रहा है। पूरे भारत से किए गए अपने संकलन को दर्शाने के लिए संग्रहालय इस श्रंखला के प्रारंभ में अपने संकलन की अति उत्कृष्ट कृतियां प्रस्तुत कर रहा है जिन्हें एक विशिष्ट समुदाय या क्षेत्र के सांस्कृतिक इतिहास में योगदान के संदर्भ में अद्वितीय माना जाता है। यह अति उत्कृष्ट कृतियां संग्रहालय के ‘AA’और ‘A’ वर्गों से संबंधित हैं। इन वर्गों में कुल 64 प्रादर्श हैं।

तांबरम पर्मा गादरम- तांबे का बड़ा पात्र

तांबरम पर्मा गादरम तांबे का एक बड़ा पात्र है जो पानी ढोने और भंडारण के लिए उपयोग किया जाता है। यह एक विशाल बेलनाकार पात्र है जो ऊपर की ओर थोड़ा फैला हुआ है। इसका कंधा लंबा और पतला है , गला भीतर की ओर धंसा हुआ और मुंह फैलाव लिये हुए है, जिस पर एक हतथेदार ढक्कन लगा है। बर्तन की गर्दन में दो गोलाकार हत्थे लगे हैं। इस प्रकार के बड़े पात्रों को एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाना आसान नहीं था अतः इन्हें बैलगाड़ियों पर ले जाया जाता था। यह पात्र तमिलनाडु के चेट्टियार समुदाय का है। चेट्टियार अपने आर्थिक सौदों और आतिथ्य के लिए प्रसिद्ध हैं। वे बहुत समृद्ध व्यापारिक समुदाय से हैं, जो प्राचीन काल में व्यापार के लिए विदेश यात्रा करते थे।

आरोहण क्रमांक – 98.577
स्थानीय नाम – तांबरम पर्मा गादरम- तांबे का बड़ा पात्र
समुदाय – चेट्टियार
स्थानीयता –शिवगंगा, तमिलनाडु

माप – ऊंचाई – 101 सेमी; गोलाई -251 सेमी;
श्रेणी – ‘ए’

OBJECT OF THE WEEK-46
(05th to 11th April, 2021
)

Due to spread of COVID-19 pandemic the museums throughout the world are closed but identifying different innovative ways to remain connected to their visitors. Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya (National Museum of Mankind) has also taken up many new initiatives to face the challenges posed by this pandemic. In one such step it is coming up with a new series entitled ‘Object of the Week’ to showcase its collection from all over India. Initially this series will focus on the masterpieces from its collection which are considered as unique for their contribution to the cultural history of a particular ethnic group or area. These masterpieces belong to the “AA” & “A” category. There are 64 objects in these categories.

Tambaram Perma Gadaram- A Big Copper Vessel

Tambaram Perma Gadaram is a large copper vessel used for carrying and storing water. The huge vessel has a cylindrical body slightly flared towards the upper part. It has a tapering shoulder, concave neck and flaring mouth. The mouth is covered with a handled lid. The vessel has two rings like handles attached to the neck. These kinds of large vessels were not easy to move and hence transported by bullock carts. It belongs to the Chettiar community of Tamil Nadu. Chettiars are well known for their financial dealings and hospitality. They belong to a very prolific business community who in olden days travelled to foreign land for trade.

Acc. No. – 98.577
Local Name  –  Tambaram Perma Gadaram- a Big copper vessel
Tribe/Community – Chettiyar
Locality   –  Shivganga, Tamil Nadu
Measurement – Height – 101 cms., Circumference- 251 cms
Category –   ‘A’

#tambaramparmagadaram #bigcoppervessel #watercarrying #waterstoring #chettiyar #shivganga #tamilnadu #tradingcommunity #igrms #museumfromhome #objectoftheweek #ethnograhicobject #museumobject #museumofman #museumofmankind #museumofhumankind #experienceigrms #igrmsstories #staysafe #covid19