ऑनलाइन प्रदर्शनी श्रृंखला – Online Exhibition Series-3

पारंपरिक टोडा आवास संकुल
जनजातीय आवास मुक्ताकाश प्रदर्शनी

Traditional Toda dwelling complex
Tribal Habitat Open Air Exhibition

इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार का एक स्वायत्तशासी संस्थान है। यह संग्रहालय भारत के ह्रदय मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित है। अपने आकार, समुदायों के प्रतिनिधित्व और संकलन के संदर्भ में यह अपनी तरह का सबसे विशाल मानव शास्त्रीय संग्रहालय है।

जनजातीय आवास मुक्ताकाश प्रदर्शनी इं गा रा मा स की प्रथम मुक्ताकाश प्रदर्शनी है जो भारत की पारंपरिक वास्तु विविधता पर आधारित है। इस सप्ताह इस श्रृंखला के अंतर्गत हम आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं इस मुक्ताकाश प्रदर्शनी में प्रदर्शित तमिलनाडु के नीलगिरी जिले में निवास करने वाली टोडा जनजाति का पारंपरिक आवास प्रकार।

Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya ( National Museum of Mankind), an autonomous organisation, Ministry of culture, Govt.of India. The Museum is located in the heart of India,the capital city of Bhopal in Madhya Pradesh. It is one of the largest anthropological/ethnographic museums in terms of its size, representation of communities and collection.

The ‘Tribal Habitat’ open air exhibition is the first open air exhibition of IGRMS focused on vernacular architecture diversity of India. This week we are presenting to you the traditional house type exhibit of Toda community of Nilgiri district in Tamilnadu exhibited in this open air exhibition.

टोडा दक्षिण भारत में तमिलनाडु के नीलगिरि जिले में बसा एक आदिवासी समुदाय है। इनके परिवार स्थायी गाँवों “मंड” या “माड” में रहते हैं। जिनके आस-पास ही एक चारागाह होता है, प्रत्येक “मंड” में आमतौर पर लगभग पाँच घर या झोपड़ियाँ होती हैं, जिनमें से तीन आवास के रूप में, एक डेयरी के रूप में और दूसरी रात में बछड़ों को आश्रय देने के लिए उपयोग की जाती है। प्रत्येक परिवार के हिस्से में एक घर “अर्श”, और गाँव की जमीन का एक हिस्सा होता है। टोडा खुद को “तोरा” कहना पसंद करते हैं। वे टोडा भाषा बोलते हैं जो द्रविड़ भाषा परिवार से संबंधित है। पूजा के पवित्र स्थान को टोडा द्वारा “फो” कहा जाता है। “फो” को एक वृत्ताकार आधार पर बनाया जाता है और इसकी छत शंक्वाकार होती है जो सूखे सोला वन घास से बनायी जाती है। इनका आवास “अर्श” आधे बैरल के आकार का होता है। इनकी सामाजिक, आर्थिक और आध्यात्मिक प्रणाली लंबे सींगों वाली पहाड़ी भैंसों के बड़े झुंडों पर केंद्रित है। भैंस से प्राप्त उत्पादन (मुख्य रूप से दूध, मक्खन और घी) इनके आहार का अभिन्न अंग है। टोडा की न केवल अर्थव्यवस्था और सामाजिक जीवन पारंपरिक रूप से भैंस पर केंद्रित है वरन इनके धार्मिक व्यवहारों का एक बड़ा हिस्सा भी इस पशु और इसकी देखभाल पर केंद्रित है। आज भी जारी पारंपरिक रिवाजों में श्रम विभाजन भी शामिल है। पुरुष भैंसों की देखभाल करते हैं और महिलाएं अनुष्ठान के साथ-साथ व्यावहारिक उद्देश्यों के लिए भी इस्तेमाल की जाने वाली शॉल पर कढ़ाई करती हैं। यह आवास संकुल टोडा जनजाति के जीवन और संस्कृति की पूरी समझ प्रदान करता है।

Todas are a pastoral tribal community inhabiting Nilgiri district of Tamilnadu in south India. Their families reside in permanent villages Mand or Madd  having each a certain tract of grazing ground surrounding it. Each Mand usually comprises about five houses or huts, three of which are used as dwellings, one as a dairy and the other for sheltering the calves at night. Each minor division of the family has a house Arsh in the Mand, and a share of the village land. The Todas prefer to call themselves Tora. They speak Toda, a language belonging to the Dravidian family of language. The sacred place of worship of Todas are called Pho. The pho is built on a circular base and its roof is conical in shape and is made of dry sola forest grass. There dwelling Arsh form a peculiar kind of oval pent shaped (half-barrel-shaped). Their social, economic and spiritual system centred on the large herds of long horned hill buffaloes. The produce derived from the buffalo (mainly milk, butter and ghee) is integral to their diet. It is not only economy and social life, traditionally centred on the buffalo, the greater part of the Toda religious observance is also focused on this animal and its care. Other traditional customs that continue today include the division of labour.  Men care for the buffaloes and women do embroidery on shawls used for ritual as well as for practical purposes. This dwelling complex provides a complete understanding of the life and culture of the Toda tribe.

Community: Toda Scheduled Tribe,  Area: Nilgiri District,    State: Tamil Nadu. Curated by: Dr. P. SANKARA RAO, Assistant Keeper.

A typical Toda Tribal settlement exhibited in IGRMS open air exhibition at Tribal Habitat.
“Pho”- Temple of the Toda tribe. It is an iconic cultural identity of Toda Tribe exhibited in IGRMS open air exhibition at Tribal Habitat.
Another view of Temple of the Toda tribe made of wood, Sola Forest dry grass, bamboo and cane etc.
“Arsh”- Traditional house of Toda tribe. Half barrel shaped structure covered with all sides except a small opening at front.
Buffalo Pen of the Toda tribe. Encircled with small stones for proper safety and security.
The Toda Man milking the buffalo.
The Toda women cooking food inside their traditional house.
Traditional embroidery work of Toda tribe is in good commercial demand in outside market.
The Toda women in their traditional dress “Putkuli”.
The Toda women performing a dance in traditional attire. Keeping the tradition alive.
Short video on IGRMS’s Traditional Toda dwelling complex:
Tribal Habitat- Open air exhibition

    

2 Replies to “ऑनलाइन प्रदर्शनी श्रृंखला – Online Exhibition Series-3”

  1. very nice presentation.
    Todas are a pastoral tribal community inhabiting Nilgiri district of Tamilnadu in south India.

    Thanks to IGRMS team and S.Rao sir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *