पुनर्विलोकन/ Punarvilokan

‘सप्ताह का प्रादर्श’
पुनर्विलोकन
(16 से 22 अगस्त, 2021
तक)

इंगांरामासं के संकलन से
‘AA’ एवं ‘A’ श्रेणी के प्रादर्शो
पर आधारित एक ऑनलाइन प्रदर्शनी

OBJECT OF THE WEEK
Punarvilokan
(16th to 22nd August, 2021)

An online exhibition on the objects
under category ‘AA’ and ‘A’
from collection of IGRMS

कोविड-19 महामारी के प्रसार के कारण दुनिया भर के संग्रहालय बंद है लेकिन यह सभी अपने दर्शकों के साथ निरंतर रूप से जुड़े रहने के लिए विभिन्न अभिनव तरीके अपना रहे हैं। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय ने भी इस महामारी द्वारा प्रस्तुत की गई चुनौतियो का सामना करने के लिए कई अभिनव प्रयास प्रारंभ किए है। अपने एक ऐसे ही प्रयास के अंतर्गत मानव संग्रहालय ‘सप्ताह का प्रादर्श’ नामक एक नवीन श्रृंखला प्रस्तुत कर रहा है। पूरे भारत से किए गए अपने संकलन को दर्शाने के लिए संग्रहालय इस श्रंखला के प्रारंभ में अपने संकलन की अति उत्कृष्ट कृतियां प्रस्तुत कर रहा है जिन्हें एक विशिष्ट समुदाय या क्षेत्र के सांस्कृतिक इतिहास में योगदान के संदर्भ में अद्वितीय माना जाता है। यह अति उत्कृष्ट कृतियां संग्रहालय के ‘AA’और ‘A’ वर्गों से संबंधित हैं। इन वर्गों में कुल 64 प्रादर्श हैं।

सप्ताह का प्रादर्श” शीर्षक वाली श्रृंखला कोविड- 19 वैश्विक महामारी की लॉकडाउन अवधि के दौरान दर्शकों के साथ जुड़े रहने के लिए इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय द्वारा प्रारंभ की गई एक नई पहल है। 28 मई, 2020 से शुरू की गई इस श्रंखला में प्रारंभ में ‘एए’ और ‘ए’ श्रेणी की 64 उत्कृष्ट कृतियों का प्रदर्शन किया गया था। इन मानवशास्त्रीय प्रादर्शों का ‘एए’ और ‘ए’ श्रेणी के रूप में वर्गीकरण भारतीय मानव विज्ञान सर्वेक्षण के राष्ट्रीय रजिस्टर के मानदंडों पर आधारित है। ‘एए’ और ‘ए’ श्रेणी में वह प्रादर्श सम्मिलित किए जाते हैं जो विलुप्त देशज समूहों से हैं, जिनका विशेष महत्व है, जो अपनी संस्कृति में अनूठे हैं, जिनका उनके सांस्कृतिक इतिहास में महत्वपूर्ण योगदान है और जो अपनी प्रकृति में दुर्लभ तथा भंगुर हैं आदि।


अब तक इस श्रंखला में ‘एए’ और ‘ए’ श्रेणी से संबंधित 64 प्रादर्श प्रदर्शित किए जा चुके हैं। अब इस श्रृंखला में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय के संकलन में से समान महत्व के अन्य दुर्लभ और मूल्यवान प्रादर्शो को प्रदर्शित किया जाएगा।

Due to spread of COVID-19 pandemic the museums throughout the world are closed but identifying different innovative ways to remain connected to their visitors. Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya (National Museum of Mankind) has also taken up many new initiatives to face the challenges posed by this pandemic. In one such step it is coming up with a new series entitled ‘Object of the Week’ to showcase its collection from all over India. Initially this series will focus on the masterpieces from its collection which are considered as unique for their contribution to the cultural history of a particular ethnic group or area. These masterpieces belong to the “AA” & “A” category. There are 64 objects in these categories.

The series entitled “object of the week” was a new initiative taken by Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya to remain connected with the visitors during the period of Covid- 19 pandemic. The ongoing series was started from 28th may, 2020 that initially showcased the 64 masterpieces of AA and A category. The categorization of these Anthropological and Ethnological objects as AA and A category are based on National Register criteria of AnSI. The criteria for the AA and A category objects includes the specimen from extinct ethnic groups, having special importance, unique to their culture & contributed to their cultural history, rare and fragile in nature etc.

Although, all 64 number of objects belong to AA and A category have been completed but this series will continue with other rare and valuable objects of equal importance that are part of IGRMS Reserve Collection.

#igrms #museumfromhome #objectoftheweek #ethnograhicobject #museumobject #museumofman #museumofmankind #museumofhumankind  #experienceigrms #igrmsstories #staysafe #covid19