चौधरी-Choudhri

चौधरी

जिलाः सूरत एवं भडोच

राज्यः गुजरात

संकलन वर्ष: 1988

चौधरी एक जनजातीय समूह है जो पश्चिम भारतीय राज्‍य गुजरात में रहते है। चौधरी एक कृषक जनजाति है। जो गांव के रास्ते के एक या दोनों ओर कतार में घर बनाते हैं। बहु समुदायी ग्रामों में वे एक पृथक बस्ती में निवास करते हैं। शाखाओं की या झाड़ियाँ उगाकर रिहायशी क्षेत्र को खेत से अलग करते हैं।

      चौतरफा ढालदार छत वाले पारम्‍परिक चौधरी आवासों का पूर्णत: दोहरे ढ़लान वाली छतों ने ले लिया है। आयताकार नक्‍शें पर निर्मित आवास चारों ओर से आठ फिर ऊँचे बेंत के बाड़े से घिरे होते है। प्रवेश हेतु एक आंशिक खुला बरामदा होता है। भीतरी भाग को वर्गाकार और आयाताकार अनाज की कोठियाँ रखकर कई कार्य क्षेत्रों में विभाजित किया जाता है। घर के भीतर पशुओं को रखने की जगह होती है, जिसमें बांस की खपच्चियों का दरवाजा लगाया जाता है।

     चौधरी घर बनाने की शुरूआत बोआई व विवाह आदि के पूर्व मृतात्माओं को संतुष्‍ट करते हैं। श्राद्ध के अवसर पर जवार व मठे से एक द्रव तैयार करते हैं जिसे वे मृतकों को भोजन स्वरूप अर्पित करते हैं व उसी से दीवाल, खेती के औजार एवं पषुओं पर चित्र भी अंकित करते हैं। (प्रो. हकू षाह)

मोंगरा देव मगर देवता चौधरियों के प्रमुख देव हैं। अनुष्ठानिक विधि से मगर की काष्ठ मूर्तियाँ बनाकर, प्रतिवर्ष शिवरात्रि के दिन ग्रामवासी नियत स्थल पर उसकी स्थापना व पूजा करते हैं।

Choudhri

Dist. : Surat and Bharoach

State: Gujarat

Year of collection: 1988

The Choudhri are a tribal people who live in West Indian state of Gujarat. The choudhri is an agricultural tribal population builds houses in linear-clusters along one or both sides of a village-street. In multi-ethnic villages, their population who build is invariably concentrated in a hamlet. A fencing of branches or a growth of bushes separate the agriculture fields from the residential area.

                The traditional four-slopped roof of choudhri houses has been almost completely replaced by a two slopped roof type. Built on a rectangular ground plan the houses have about eight feet high mud plastered wattle wall on all four sides. The main entrance is provided through a partly open Verandah. The inside space is divided into several functional areas by placing square and rectangular clay grain-bins for separation. The area of cattle inside the house is provided with a door of bamboo splits.

The Choudhri propitiate the spirit of the dead before constructing a new house, showing a new crop and initiating a marriage ceremony. On the day of Shradh (ancestor worship), the tribal make a liquid of jawar and butter milk which they offer to the departed. It is also used to make symbolic impration on walls on agriculture implements and on cattle. (Prof. H. Shah)

               The principal deity of choudhri is Mongra deo, the crocodile god. The wooden figures of crocodile are carved following an elaborate rite and installed at a fixed place annually and propitiated there by the entire village on Shivratri.