1 -7 जून / June, 2020

राही-पालकी (1 जून से 7 जून, 2020 तक)

राही-पालकी (1 जून से 7 जून, 2020 तक)
नववधू को अपने पिता के घर से ससुराल ले जाने के लिए उपयोग की जाने वाली यह अलंकृत नक्काशीदार राही’ झारखंड के संथाल समुदाय के पारंपरिक विवाह में प्रमुख स्थान रखती है। वधू के बैठने हेतु उचित रूप से निर्मित इस पालकी की छत सुंदर रूप से सुसज्जित है। यह पालकी तीन तरफ से काष्ठ पैनलों से घिरी है। प्रत्येक काष्ठ पैनल में पशु-पक्षियों और पुष्पों की आकृतियां तथा बारात के दृश्यों की अर्थपूर्ण अभिव्यक्ति है। अंदर बैठने की जगह धागों से निर्मित है। पालकी से संबंधित मौखिक परंपराओं तथा गीतों से जुड़ी यह प्राचीन परंपरा सामाजिक परिवर्तन की विभिन्न प्रक्रियाओं के कारण शनै: शनै: समाप्त होती जा रही है।

Rahi- A marriage palanquin (1st to 7th June, 2020)
Used for carrying the bride during the departure from the parental home to the place of the groom’s family, this ornately carved ‘Rahi’, occupies a prominent space in the traditional form of marriage among the Santhal community of Jharkhand. Designed appropriately to accommodate a bride, it is beautifully decorated with canopy on the top. This marriage litter is enclosed with wooden panels from three sides. Each of these panels carries meaningful expressions of birds, animals and floral designs and scenes of marriage procession. The interior sitting platform is woven with threads. This age old practice associated with oral traditions and songs related to palanquin are nearing extinction due to various processes of change in social life.

Object of the week June 2020 first week
Object of the week June 2020 first week

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *