संथाल सृष्टि मिथक-THE SANTHAL ORIGIN MYTH

संथाल सृष्टि मिथक

कलाकार: श्री दुबई किसक, ईश्वर मराण्डी

क्षेत्र: दुमका, बिहार

तब पृथ्वी केवल एक बड़ा- सा जलाशय थी । पारवती स्नान की गरज से तोडे (रेशमी धागा) पकड़कर नीचे आई रगड़ने पर शरीर से जो मैल निकला उससे उन्होंने हाँस हाँसी (हँस-हँसनी) गढ़ दिये। हाँस हाँसी उड़ चारों पानी पानी था। धरती नदारद थी, कब तक थक्कर वे पारवती पास लौट आये। पारवती ने गुहार लगाई। सुनकर पाताल से लैण्डेक (कंचुआ) होरो (कछुआ) ऊपर पारवती के धरती को लाने का उपाय पूछने होरो बोला कि लैण्डेक सागर तल से मिट्टी ला लाकर मेरी पीठ पर जमा कर सकता है। ऐसा ही किया गया। लेकिन पीठ पर भार पड़ने से होरो कभी हिल जाता तो बहुत सी धरती फिर पानी गिरती परेशान पारवती अपनी सखी जाहिर एरा और गुसाई एस बुलाया और उनकी मदद होरो के बाँध दिये ताकि वह हिल-डुल न सके। तरह कछुए की पीठ पर जमी धरती हाँस-हँसी घोसला बनाया। पारवती के टूटे बाल और कधी के दाँते क्रमश घास पेड़ों बदल गये हाँस हाँसी अण्डे जिससे प्रथम स्त्री-पुरुष, पिलघु हड़ाम और पिलघु बुढी पैदा हुए। इनके पाँच लड़के लड़कियों हुई। पिता लड़कों और माँ लड़कियों को लेकर धरती उल्टी दिशा चल पड़े, ताकि बहन आपस में न सके। लेकिन धरती का चक्कर लगाते हुए आखिरकार में फिर एक जगह मिल गये। पाँच लड़के-लड़कियों आपस विवाह कर लिया और वहीं चाय-चम्पागढ़ लगे। बड़ा बेटा किसक कहलाया और उसे बनाया गया। दूसरा लड़का मुरमू कहलाया उसे पूजा, झाड़-फूंक का काम दिया गया। तीसरा लड़का मराण्डी किसान चौथा लड़का सोरेन योद्धा बना पाँचवा टुढो कहलाया वह इन सभी कई बच्चे हुए छठी लड़की कुँवारी रह थी पर उसने भी जंगल में एक बच्चे जन्म दिया। पता लगने पर किसकु उसे भी गाँव में रहने बुला लिया, बच्चे का नाम रखा माधो सिंह ।बड़ा होने बलशाली गाँव की कोई लड़की विवाह करने को तैयार थी। माधो सिंह गाँव उजाड़ने की धमकी दी। घबराकर सभी रातों रात माधो को सोता छोड़कर वहाँ से कर दिया। अजयगड़ा नदी पार करने उन्होंने दूसरी ओर आकर दिनुम (होड़-आदमी, दिसुम-दिशा) देश बसाया, जिसे आज संथाल परगना नाम जाना जाता है। आज भी जब धरती-कम्प होता है तो संचाल कहते है -होरो मीन कटु

लडा ओकेदा’ यानी, कछुए को धरती का बोझ भारी लग रहा है इसलिये वह पैर हिला रहा है।

THE SANTHAL ORIGIN MYTH

Artists: Shri Dubai Kisku and Ishwar Marandi

Region: Dumika, Jharkand

In the beginning when the earth was only one huge lake, Parvati descended from the heavens for her bath. As she was being oiled, her hands moulded two swans out of the dirt rolled off her body. The birds flew away but were very soon tired; there was no earth in sight and they came back to Parvati. Parvati called out for help, hearing which Lendek, the earthworm and Horo, the tortoise came up. When she asked them for a way to retrieve the earth, Horo suggested that Lendek could perhaps deposit small pallets of earth little by little on Horo’s back. Slowly the earth began to mount on his back, but whenever Horo felt the weight too much his leg moved and a lot of earth slipped back into the deep. Seeing this Parvati called her friends Jahir Era and Gusain Era and got Horo’s limbs tied. When the earth was set up, the swans came and began to build their nest, the broken teeth of Parvati’s comb and the strands of her hair became the trees and the grass, the swans hatched the eggs out of which came the first man and woman Pilchu Hadam and Pilchu Burhi who further gave birth to five sons and six daughters. Pilchu Hadam and Burhi divided the sons and daughters between them and walked off in opposite directions so as to avoid contact of the kins. But the earth is round and some years hence their ways crossed. Ten of them married each other and settled in Champagarh. The elder Kisku was made the King and the rest Murmu Marandi, Soren And Tudo took to medicine, farming, warriorship and the crafts respectively. Eventually they had many children in the course of time. Even the unmarried sixth girl gave birth to a baby boy in the jungles. When Kisku heard of it, he called him into the village. He was called Madho Singh. He grew up to be a strong young man, yet, no girl wanted to marry him.

Angry Madho threatened to raize the village to the ground. Scared of the disaster, one night, the village men slipped away abandoning their houses while Madho slept. They crossed the Ajaygada river and established the new kingdom called Hor-disum (or the direction of the human being) which later came to be known as the Santhal Pargana. Even now whenever there is a tremor in the earth, the Santhals say, “Horo meen kattu lada okeda”, meaning, this must be Horo shaking his leg, feeling his back heavy.