मोरुंग -Morung

मोरुंग – युवागृह सह ग्राम द्वार
जनजाति आओ नागा
राज्य नागालैंड

आओ नागा मोरुंग एक पारंपरिक संस्था है जहां अविवाहित लड़के युवावस्था प्राप्त करने पर एक साथ रहते हैं। आओ नागा मोरुंग अपने वृहद नक्काशीदार काष्ठ स्तंभों पर बनी संरचनाओं के लिए प्रसिद्ध है। यह मोरुंग योद्धाओं के लिए एक विशिष्ट सुरक्षा गृह होता है, और सामान्यतः गांव के भौगोलिक विभाजन ‘खेल’ के रणनीतिक स्थान पर बनाया जाता है। कुछ समय पहले तक मोरूंग 12 वर्ष की आयु वाले लड़कों के समूह को सामाजिक जीवन में प्रवेश कराने की एक संस्था रही है। कभी-कभी इस प्रकार के समारोह में कठिन शारीरिक परीक्षाएं भी होती थी। जिनका उद्देश्य उन्हें दुश्मन के हमलों से बचाने का प्रशिक्षण देना भी होता था और यह समूह ग्राम वासियों को आकस्मिक घटनाओं से बचाव करने में भी मदद कर सकते थे। गांव की सुरक्षा के सामाजिक उत्तरदायित्व के अतिरिक्त मोरूंग के सदस्य ग्राम वासियों को कृषि कार्यों में भी सहयोग प्रदान करते हैं।

यह मोरूंग विशिष्ट रूप से निगरानी करने के लिए बनाए गए एक मचान जैसी संरचना है। इसमें एक चौड़ा प्रवेश द्वार है जो पीछे की ओर संकरा और झुका हुआ है। सामने के स्तंभों में विस्तृत नक्काशी है जिसमें से एक स्तंभ में एक दूसरे के आमने सामने चौकस मुद्रा में दो बाघों को दर्शाया गया है। दूसरी तरफ के स्तंभ में दो मगरमच्छों को दिखाया गया है। पीछे के हिस्से पर लगाए गए अन्य स्तंभों में भी मानव शीश, दाओ और नैसर्गिक प्रतीकों के रूपांकन हैं। बगल की दीवारों को सुरक्षा के दृष्टिकोण से बाँस के नोकदार टुकड़ों से बनाया गया है। छत के नीचे एक मचान बनाया गया है जिसमें बैठकर योद्धा दुश्मनों की दृष्टि से खुद को छुपा सकते हैं। इस तरह मोरुंग अपने उद्देश्य के अनुरूप सभी सामरिक आवश्यकताओं से परिपूर्ण है और आओ नागा जनजाति के सामाजिक-आर्थिक और सांस्कृतिक जीवन में एक विशिष्ट स्थान रखता है।

Morung-Youth Dormitory Cum Village Gate
Tribe-Ao Naga
State- Nagaland

The Ao Naga Morung is a traditional institution where unmarried boys live together when they attain the age of puberty. Ao Naga Morung is well-known for its massive, richly carved wooden columns and pillars laid out in a megastructure. This Morung represents a typical Guard House for the warriors, and such structures were traditionally built in the strategic location of the village Khels (wards). In the olden days, a group of boys who attained 12 years of age were initiated into the Morung as a part of their social life. It is sometimes reported that the initiation ceremony happened to be an arduous achievement and frightening affair that involves serious physical tests. These tests were conducted to achieve the goal of training the warriors who could protect them from enemy raids and also help the villagers from relieved from unseen and untoward incidences. Apart from the collective social responsibilities of safeguarding the village, the members of the Morung also give economic cooperation to fulfill the agricultural works of individual families.

This Ao Naga Morung is characteristically a watch tower structure. It has a wide entrance that narrows down to the rear extension. The front pillars have elaborate carvings and are represented by huge motifs of two attentive tigers facing one another. Similarly, on the other side of the pillar, two crocodiles in the same fashion are aesthetically presented to build a symmetrical ambiance for the gate. Other sub-ordinate pillars on the rear portion and columns also present symbols and motifs of human heads, Daos, and heavenly symbols. The side walls are uniquely arrayed by thorny projections of bamboo spikes as protective features. The attic serves as a strategic space where warriors can hide and conceal themselves from the sight of enemies.  The Morung in itself is embodied with complete martial necessities and reserves a special place in the socio-economic and cultural life of the Ao Naga tribe.